लहर

लहर

सागर से उठी, एक ऐसे लहर;
गहराईयों ने पुकारा,
गाये खामोशियों का कहर,
जिसे है तन्हाइयों ने सवारा |

दिखाए, गिरती बूंदों का इशारा;
रोते आकाशों तले,
परछाइयों का नज़ारा
जिसमें टूट चुकी है मंजिल,
और बह गया सहारा |

-सिद्धार्थ पाठक
१९/ १०/ २००५


5 comments


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s